डॉ. एस उमा महेश्वरा रेड्डी
डॉ. एस उमा महेश्वरा रेड्डी
निदेशक, सूक्ष्मतरंग नलिका अनुसंधान एवं विकास केन्द्र (MTRDC)

डॉ. एस उमा महेश्वरा रेड्डी, वैज्ञानिक 'एच', इन्होंने 01 दिसंबर 2018 को माइक्रोवेव ट्यूब रिसर्च एंड डेवलपमेंट सेंटर (एमटीआरडीसी), बैंगलोर के निदेशक के रूप में कार्यभार संभाला है। उन्होंने उस्मानिया विश्वविद्यालय, हैदराबाद से इलेक्ट्रॉनिक्स में एम. टेक की डिग्री प्रौद्योगिकी संस्थान बीएचयू, वाराणसी से माइक्रोवेव ट्यूब में विशेषज्ञता के साथ इलेक्ट्रॉनिक्स में पीएचडी पाप्त की है।

डॉ रेड्डी ने शुरुआत में मैसर्स बीईएल, मछलीपट्टनम में डिप्टी इंजीनियर के रूप में काम किया और नाइट विजन डिवाइसेस के विकास में काम किया। वे मई 1987 में एमटीआरडीसी में वैज्ञानिक 'बी' के रूप में शामिल हुए और परियोजना प्रबंधक, समूह प्रमुख, मंडल प्रमुख और परियोजना निदेशक की ज़िम्मेदारी संभाली। उन्होंने कई परियोजनाओं और प्रौद्योगिकियों में योगदान दिया है और वे डिफेंस सिस्टम्स, एमपीएम आधारित ट्रांसमीटरों के लिए हेलिक्स- और कपल-कैविटी टीडब्ल्यूटी के विभिन्न प्रकारों के डिजाइन और विकास में शामिल रहे हैं। उनकी वर्तमान रुचि के क्षेत्रों में हाई पावर माइक्रोवेव - डायरेक्टेड एनर्जी वेपन्स, वैक्यूम इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसेस आदि शामिल हैं।

वह वैक्यूम इलेक्ट्रॉनिक्स डिवाइसेस एंड एप्लीकेशन सोसाइटी (वीडीएएस), मेंबर-आईईईई और मेंबर-मैग्नेटिक सोसाइटी ऑफ इंडिया (एमएसआई) के फेलो हैं।

वे वर्ष 2003 और 2013 के लिए सेल्फ-रिलायंस के लिए डीआरडीओ एजीएनआई पुरस्कार के प्राप्तकर्ता हैं। माइक्रोवेव ट्यूब्स के क्षेत्र में उनके महत्वपूर्ण योगदान के लिए उन्हें वर्ष 2001 में डीआरडीओ साइंटिस्ट ऑफ द ईयर पुरस्कार भी मिल चुका है। उन्होंने कई राष्ट्रीय / अंतर्राष्ट्रीय पत्रिकाओं और सम्मेलनों में, 25 से अधिक पत्र-पत्रिकाओं का लेखन / सह-लेखन और प्रस्तुतीकरण किया है।

Back to Top