संपर्क

निर्देशक की प्रोफाइल

IRDE Dir-Profile

श्री बेंजामिन लियोनेल, उत्कृष्ट वैज्ञानिक और निदेशक, उपकरण अनुसंधान एवं विकास संस्थान (आईआरडीई) ने 1983 में मदुरै कामराज विश्वविद्यालय से भौतिकी में एम. एससी. और 1985 में आईआईटी, दिल्ली से ऑप्टो-इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम्स के डिजाइन और विकास में विशेषज्ञता के साथ एप्लाइड ऑप्टिक्स एंड ऑप्टिकल इंस्ट्रुमेंटेशन में एम. टेक.  किया। उन्होंने 2004 में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार और सुरक्षा केंद्र, जॉर्जिया विश्वविद्यालय में प्रशिक्षण प्राप्त किया।

श्री बेंजामिन वैज्ञानिक बी के रूप में 1985 में आईआरडीई, देहरादून में शामिल हुए और ऑप्टिकल डिजाइन के क्षेत्र में चार वर्ष तक काम किया। 1989 में, वे सीवीआरडीई में शामिल हुए और 14 वर्ष तक टैंक एंड एफ़वीएफ के अग्नि नियंत्रण प्रणाली में विभिन्न पदों पर काम किया। वर्ष 2006 में, उन्हें टीएडी, लंदन में काउंसलर नियुक्त किया गया और वे तीन वर्ष तक विभिन्न कर्तव्यों को पूरा करते रहे। वर्ष 2009 में, वे सहायक निदेशक (आईएफसीएस और टीईपीएस) के रूप में सीवीआरडीई में शामिल हो गए और दो वर्षों तक काम किया। वर्ष 2012 में, उन्हें दो वर्ष के लिए डीआरडीओ मुख्यालय में डीसीवी एवं ई नियुक्त किया गया। वर्ष 2014 में, उन्होंने डीआरडीओ मुख्यालय में निदेशक (वाहन) का पदभार संभाला और बाद में वर्ष 2015 में मुख्य प्रोग्राम कार्यालय (एचपीओ-II) नियुक्त किया गया। 01 जुलाई 2016 से उन्हें आईआरडीई का निदेशक नियुक्त किया गया है।

उनका मुख्य योगदान एमबीटी-अर्जुन के अग्नि नियंत्रण प्रणाली के एकीकरण और मूल्यांकन और अर्जुन की हथियार प्रणाली के प्रदर्शन को प्रमाणित करना है। उन्हें टी-55, टी-72, टी-90 और एमबीटी-अर्जुन टैंकों के अग्नि नियंत्रण प्रणालीका गहन व्यावहारिक अनुभव और ज्ञान हैं। एएफवी के प्रदर्शन को प्रमाणित करने के लिए उन्होंने विभिन्न तकनीकों का विकास किया है। टीम लीडर के रूप में, उन्होंने एमबीटी-अर्जुन के लिए गनेरी सिमुलेटरों का विकास किया, पीआरएफआर, पोखरण में परीक्षण के दौरान डीआरडीओ टीमों का समर्थन करने के लिए कंटेनर आधारित बुनियादी ढांचा बनाया और परीक्षणों के दौरान उपयोगकर्ताओं केसे संबंधित कई मुद्दों का समाधान किया।

श्री बेंजामिन ने पत्रिकाओं और अंतरराष्ट्रीय सम्मेलनों में कई तकनीकी पत्र और रिपोर्ट प्रकाशित किए हैं। एमबीटी-अर्जुन की तोप संदर्भ प्रणाली के विकास के लिए वर्ष 2004 में उन्हें डीआरडीओ प्रौद्योगिकी पुरस्कार से और एमबीटी-अर्जुन के अग्नि नियंत्रण प्रणाली के सफल एकीकरण और इंटरफेसिंग के लिए वर्ष 1995 के प्रौद्योगिकी समूह पुरस्कार सम्मानित किया गया। श्री बेंजामिन भारत की ऑप्टिकल सोसाइटी (ओएसआई) और इंस्ट्रुमेंट सोसाइटी ऑफ इंडिया के आजीवन सदस्य हैं।

.
.
.
.
Top