संपर्क
मुख्य पृष्ठ >डीटीआरएल > ऐतिहासिक पृष्ठभूमि

ऐतिहासिक पृष्ठभूमि

 
  • डीआरडीओ में 19 फरवरी, 1964 को भूभाग मूल्यांकन प्रकोष्ठ (टीईसी) के सृजन के साथ भूभाग मूल्यांकन गतिविधियां प्रारंभ हुईं।
  • टीईसी का मूल उद्देश्य दुर्गम क्षेत्रों में भूभाग के मूल्यांकन और सचलता संभाव्यता के आकलन के लिए तकनीकों का विकास करना था।
  • भूभाग संबंधी जानकारी के महत्व की मान्यतास्वरूप, टीईसी को 10 दिसम्बर, 1981 को पूर्ण विकसित प्रयोगशाला का दर्जा प्रदान करते हुए इसका पुनर्नामकरण रक्षा भूभाग अनुसंधान प्रयोगशाला (डीटीआरएल) के रूप में किया गया।
  • डीटीआरएल को 17 सितम्बर, 1998 को स्व-लेखांकन इकाई बनाया गया।
.
.
.
.
Top